Paragraph on Pehla Sukh Nirogi Kaya in Hindi- पहला सुख निरोगी काया पर निबंध

Here we are with 150 words Paragraph on Pehla Sukh Nirogi Kaya describing about the importance of healthy body over any other facility or Happiness. Read about पहला सुख निरोगी काया पर निबंध in 150 words. एक सुखमय व खुशहाल जीवन को जीने के लिए सात सुखों का वर्णन किया गया हैं –

पहला सुख – निरोगी काया, दूजा सुख – घर में हो माया, तीजा सुख – सुलक्षणा नारी, चौथा सुख – हो पुत्र आज्ञाकारी, पाँचवां सुख – हो सुन्दर वास, छठा सुख – हो अच्छा पास, साँतवां सुख – हो मित्र घनेरे, और नहीं जगत में दुखः बहुतेरे !

Here we are with short paragraph on Pehla Sukh Nirogi Kaya in Hindi the first happiness of life.

Paragraph on Pehla Sukh Nirogi Kaya Hindi

एक सुखमय जीवन को जीने के लिए हमें ७ सुखों की अवक्षकता होती है जिसमे सबसे पहला व प्रमुख सुख – निरोगी काया हैं। अगर हम इस पहले सुख से ही वंचित रहेगे तो दुनिया का कोई भी सुख हमें आनंद नहीं दे पायेगा।

एक अस्वस्थ व्यक्ति का मन, मस्तिष्क, स्वभाव सभी अस्त−व्यस्त रहते है। जहाँ एक निरोगी व्यक्ति अपने जीवन को सुचारू रूप से चलाने के लिए रोटी कमाने से लेकर, विद्या अर्जित करने और कला-कौशल क्षेत्र में प्रवेश कर कहीं भी सफलता प्राप्त कर सकता है वहीँ एक रोगी व्यक्ति सभी प्रकार की सुख सुविधायें होते हुए भी उनका उपयोग नहीं कर सकता। इसलिए नीरोग रहना जीवन की प्रथम आवश्यकता मानी गई है। यदि व्यक्ति नीरोग है तो वह अपनी प्रसन्नता बनाये रह सकता है और उसे दूसरों को भी बाँट सकता है।

स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मन का विकास होता है इसलिए सदैव निरोगी रहिये व अपने स्वास्थ्य की रक्षा करे।

5 thoughts on “Paragraph on Pehla Sukh Nirogi Kaya in Hindi- पहला सुख निरोगी काया पर निबंध

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: