Essay on All that Glitters is not gold in Hindi- हर चमकती चीज सोना नहीं होती

Here we are with 400 words Essay on All that Glitters is not gold in Hindi describing about why we should not judge the person or thing from its outer appearance only as not everything has a true appearance. हर चमकती चीज सोना नहीं होती पर निबंध.

Essay on All that Glitters is not gold in Hindi

करीब चार सौ साल पहले शेक्सपियर ने अपने प्रसिद्ध नाटक ‘द मर्चेंट ऑफ़ वेनिस’ के लिए मशहूर कहावत ‘All that Glitters is not gold- हर चमकती चीज सोना नहीं होती’ लिखी थी, जो आज भी उतनी ही सच है जितनी जब उस महान नाटककार ने लिखी थी । हर चमकती चीज सोना नहीं होती एक प्रसिद्ध कहावत नहीं है ही नहीं है बल्कि यह उन लोगों, जगहों या चीजों पर भी लागू होती है जो वास्तव में खरे होने का दिखावा करते हैं पर हक़ीक़त में सिर्फ छलावा होते हैं। सरल शब्दों में, इस कहावत का अर्थ यह भी हो सकता है की हमें हर चमकती चीज़ को सोना समझकर नहीं अपनाना चाहिये, एक बार उसे परख लेना ही उचित होता हैं ।

वास्तव में, सृष्टि की शुरुआत से ही यह सच है। आदम को स्वर्ग से बाहर फेंक दिया गया था क्योंकि उसने शैतान की चकाचौंध से भरी बातों को मानकर निषेध फल खा लिया। शानदार स्वर्ण हिरण सीता के दुर्भाग्य का मुख्य कारण बन गया क्योंकि उसने भगवान राम को उस सुनहरे पशु को अपने पास लाने के लिए मजबूर कर दिया परिणामस्वरूप रावण सीता का अपरहण कर उन्हें अपने साथ लंका ले गया। हमारे इतिहास से बहुत सारे उदाहरण हैं जो हर चमकती चीज सोना नहीं होती कथन को सही साबित करते हैं। यह दुनिया उन लोगों से भरी है जो संत, धार्मिक एवं दयावान होने का दिखावा करते हैं लेकिन यह हमेशा सच नहीं होता है, कभी-कभी वे क्रुद्ध और खलनायक भी हो सकते हैं। मुस्कुराते चेहरे खतरनाक भी हो सकते हैं, इसके विपरीत कुछ सुस्त दिखने वाले चेहरे असीमित ज्ञान और करुणा का भंडार हो सकते हैं । किसी वास्तु के बाहरी भाग को देखकर उस चीज़ की गुणवत्ता का पता लगाना उचित नहीं हैं ।

परिदृश्य अक्सर भ्रामक होते हैं। हमें बाहरी सौंदर्य के साथ नहीं चलना चाहिए किसी को भी उसके विचारों से नहीं बल्कि उसकी गतिविधियों से परखना चाहिए। सोना एक चमकदार धातु हैं है, फिर भी सभी चमकदार चीजें स्वर्ण नहीं हैं। एक वस्तु उज्ज्वल और सुंदर लग सकती है, लेकिन जरूरी नहीं वह मूल्यवान भी हो । हमें केवल बाहरी आवरण से किसी चीज़ का न्याय नहीं करना चाहिए, हमें ध्यानपूर्वक इस बात की जांच करनी चाहिए और उसका कोई वास्तविक मूल्य है भी या नहीं। एक व्यक्ति को उसकी क्षमताओं के आधार पर परखा जाना चाहिए, न कि इस पर की वह दिखता कैसा हैं। वास्तव में अच्छे और महान पुरुषों विनम्र होते हैं एवं दिखावे से दूर ही रहते हैं ।

इसलिए यह ज़रूरी नहीं है जैसी चीज़ें दिखें, वे वैसी ही हों । हम उन चीज़ों या लोगों से धोखा खा सकते हैं क्योंकि वे बाहर से सोने की तरह चमकते हैं पर अंदर से वे कंकड़ या पत्थर के समान हो सकते हैं । वे सोने की तरह दिखते ज़रूर हैं पर वे सोना नहीं हैं और उनमें सोने जैसे अच्छे गुण नहीं हैं ।

1 thought on “Essay on All that Glitters is not gold in Hindi- हर चमकती चीज सोना नहीं होती

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.