Essay on my favourite festival in Hindi – मेरा प्रिय त्योहार होली

हमारे देश में अनेक त्योहार बहुत धूमधाम से मनाए जाते हैं जैसे दिपावली, होली, ईद, क्रिसमस आदि. प्रायः अलग-अलग धर्मों के लोग अलग-अलग त्योहार मानते हैं. मै अपने मित्रों तथा परिवार के साथ सभी त्योहार धूमधाम से मनाता हूँ. त्योहारों से जीवन में रौनक आती हैं तथा ये समाज में सौहार्द की भावना को भी बढ़ाते हैं.

यूँ तो मुझे सभी त्योहार प्रिय हैं परन्तु होली का त्योहार मुझे सबसे अधिक प्रिय हैं. होली वसंत ऋतू प्रायः मार्च के महीने में मनाई जाती हैं. इस समय मौसम सुहावना होता हैं ना बहुत अधिक ठण्ड ना बहुत गर्मी। होली का त्योहार वातावरण में गीतों की मिठास और रंगों की रंगीनियाँ बिखेर देता हैं. मीठी गुंजिया, नमकीन पकोड़े व रंग बिरंगे गुलाल सभी मिलकर एक ऐसा समां बांध देते हैं की सब अपनी पुरानी रंजिशे भूलकर होली के रंगो में भीग जाते है. मैं भी अपने मित्रों, भाई बहनो के साथ रंगों में सरोबार हो जाता हूँ. वैसे तो मुझे सभी रंग पसंद हैं पर पीला गुलाल मुझे बहुत अच्छा लगता हैं, मुझे काले, नीले, जामुनी जैसे रंग पसंद नहीं हैं.

हम सभी मित्र टोली बनाकर अपने पड़ोसियों या जान पहचान के लोगो के घर जाकर उनको रंग लगाते व मिठाइयाँ भी खिलाते हैं. मेरी माँ घर पर ही गुंजिया व अन्य कई पकवान जैसे दही भल्ले, पकोड़े आदि बनाती हैं जो मैं अपने सभी मित्रों के साथ मिलबांट के खाना पसंद करता हूँ. होली का त्योहार रंगो का त्योहार है पर कुछ लोग एक दूसरे पर पानी डालते हैं या गुब्बारों में पानी भरकर फेंकते हैं जो बिलकुल भी अच्छी बात नहीं हैं क्यूंकि इससे किसी को चोट लग सकती हैं या वह बीमार भी पड़ सकता हैं. होली के दिन लोग भेदभाव भलकर एकदूसरे के गले मिलते हैं, होली के गीत गाते हैं, एक-दूसरे को गुलाल लगाते हैं व खुशियाँ बाँटते हैं, किसी को भी परेशान करना या हानि पहुँचाना इस त्यौहार का उद्देश्य कदापि नहीं हैं.

होली का त्योहार बैर-भाव भुलाने, मित्रता बढ़ाने, संबंधो को मजबूत करने व समाज में एकता बढ़ाने वाला त्योहार है, इसलिए यह त्योहार मुझे सभी त्योहारों में सबसे अधिक प्रिय हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.