Essay on Eradicate Corruption Build a New India in Hindi

Here we are with Essay on Eradicate Corruption Build a New India in Hindi (भ्रष्टाचार मिटाओं – नया भारत बनाओं) describing how corruption affecting our lives and how to eradicate it from the country to make a New corruption free India. Read Essay on Eradicate Corruption Build a New India in Hindi.

Essay on Eradicate Corruption Build a New India in Hindi

भ्रष्टाचार इस शब्द से हर कोई परिचित हैं, जैसे ही हम यह शब्द सुनते हैं हमारे सामने उन भ्रष्ट सरकारी कर्मचारियों की सुरते घूम जाती हैं जो रिश्वत लेना अपना जन्मसिद्ध अधिकार समझते हैं. पर क्या भ्रष्टाचार के लिए सिर्फ वही कर्मचारी जिम्मेवार हैं जो रिश्वत लेते हैं , हम भी तो अपना काम निकलवाने के लिए रिश्वत देकर इस भ्रष्टाचार को बढ़ाने में भागीदार हैं. भारत में भ्रष्टाचार आज एक बड़ी समस्या बन गया हैं जो हमारे देश को दीमक की तरह अंदर ही अंदर से खोकला कर रहा हैं. भारत में भ्रष्टाचार इतना आम हो गया है कि लोगो को अब यह समस्या ना लगकर उनके जीवन का एक अंग लगने लगा हैं.

भ्रष्टाचार सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक सभी पहलुओं से देश के विकास को प्रभावित कर रहा है। आज भारत की गिनती दुनिया के तीन सबसे भ्रष्ट देशों में होती है।भारत में भ्रष्टाचार नौकरशाही, राजनीति और अपराधियों के बीच गठजोड़ का परिणाम है। एक समय था जब गलत काम करने के लिए रिश्वत दी जाती थी लेकिन अब सही समय पर सही काम करने के लिए रिश्वत देनी पड़ती है।
भ्रष्टाचार जो आज हमारे देश की जड़ों में बस गया है क्या हम उसे कभी उखाड़ फेकने में सक्षम हो पाएंगे। भ्रष्टाचार को खत्म करने के लिए हमें ईमानदार व्यक्तियों की आवश्यकता होगी और निस्संदेह ऐसे व्यक्ति आजकल बहुत काम देखने व सुनने को मिलते हैं. एक कहावत के अनुसार हिंसा मन में शुरू होती है यही बात भ्रष्टाचार पर भी लागू होती हैं.अगर हम अपनी सोच को बदल ले तो हम निश्चित रूप से भ्रष्टाचार रुपी राक्षस को खत्म कर सकते हैं.

हम सभी भ्रष्टाचार के लिए समान रूप से जिम्मेदार हैं। हम कानून तोड़ते हैं और दंड से बचने के लिए हम संबन्धित अधिकारी को रिश्वत देते हैं। यह केवल एक उदाहरण है, हम सभी को अपना काम पूरा करने के लिए एक या दूसरे तरीके से रिश्वत देते ही है। क्या हो अगर कानून तोड़े ही ना जाये और अगर टूट भी जाए तो उचित दंड का भुगतान कर सजा स्वीकार कर ली जाये । अगर हम स्वयं को और अपने दृष्टिकोण को बदले तो संभव है कि भ्रष्टाचार हमारे समाज से पूरी तरह समाप्त हो जाए. यह एक दिन या वर्ष में नहीं किया जा सकता है, इसमें समय लगेगा, लेकिन अगर हम सभी प्रतिज्ञा कर ले की हम किसी भी तरह से भ्रष्टाचार का हिस्सा नहीं बनेंगे तब यह संभव हो सकता हैं. और हमारी आगे आने वाली पीढ़ी को भ्रष्टाचार मुक्त एक नया भारत मिल सकता हैं ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.